महाकवि आरसी प्रसाद सिंह

महाकवि आरसी प्रसाद सिंह
रूप, यौवन और प्रेम के कवि के रूप में विख्यात थे| बिहार के चार तारों में वियोगी के साथ प्रभात और दिनकर के साथ आरसी सदैव याद किये जायेंगे|आरसी बाबु का जन्म बिहार के समस्तीपुर जिले के एरौत गाँव में १९ अगस्त १९११ में हुआ था|
 
आरसी प्रसाद सिंह के द्वारा रचित कवितायेँ:
माटिक दीप
पूजाक फूल
सूर्यमुखी ( साहित्य अकादमी पुरस्कार सन् १९४८ में| )
कागज की नाव
मधु-सन्देश
बसंत कोकिल
याद
अभेद
वर्षा-गीत
क्यों प्यार करता हूँ
मना रहा हूँ उन्हें
मौन रहने दो
उल्टी नगरी
स्वर्ण किरण
 
 
 
 
 
 
आरसी प्रसाद सिंह के बारे में और जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें: